jio यूजर्स ध्यान दें : 31 मार्च को खत्म हो रही है प्राइम मेंबरशिप, जानिए फिर क्या होगा

रिलायंस जियो ने अपनी सर्विस लॉन्च के साथ ही पूरी इंडस्ट्री को हिला कर रख दिया है. कंपनी की सस्ती डेटा कीमत और फ्री वॉयस कॉल सर्विस ने यूजर्स को सबसे ज्यादा लुभाया. सितंबर 2016 में लॉन्च के छह महीने बाद तक जियो ने अपनी सेवाएं फ्री दी. मुकेश अंबानी ओन्ड कंपनी रिलायंस जियो ने अप्रैल 2017 में प्राइम मेंबरशिप शुरु की , इसके तहत 99 रुपये देकर यूजर्स प्राइम मेंबरशिप पा सकते हैं और इसके बाद कंपनी ने प्राइम मेंबर होने के नाते उन्हें सस्ते और बेहतरीन टैरिफ प्लान के ऑफर दिए गए.

रिलायंस जियो का ये प्राइम मेंबरशिप प्लान 31 मार्च 2018 को खत्म हो रहा है यानी महज पांच दिन बाद ये ऑफर खत्म हो रहा है जिसे एक साल की वैलिडिटी के साथ शुरु किया गया था. ऐसे में हर ग्राहक के मन में एक ही सवाल है कि 31 मार्च के बाद क्या होगा. प्राइम मेंबरशिप खत्म होने के बाद क्या होगा?

क्या नए ऑफर दे सकती है कंपनी?

ऐसे में उम्मीद जताई जा रही है कि कंपनी प्राइम मेंबरशिप ऑफर को एक्सटेंड यानी बढ़ा सकती है. दूसरी अटकलें ये भी हैं कि कंपनी इस प्राइम सर्विस ऑफर को ही खत्म कर दे और इसके बदले 99 रुपये में मिलने वाली ये सर्विस फ्री कर दें.

इसके अलावा उम्मीद ये भी कि रिलायंस जियो अपने ग्राहकों के लिए नया, सस्ता और नए ऑफर्स वाला प्लान उतार सकता है. हालांकि अब तक कंपनी की ओर से कोई औपचारिक ऐलान नहीं किया गया है. प्राइम मेंबरशिप खत्म होने के बाद कंपनी का नया दांव क्या होगा इसका सभी को इंतजार है.

अब तक प्राइम मेंबरशिप में क्या मिलता है?

  • साल 2017 अप्रैल महीने में प्राइम मेंबरशिप शुरु की गई. इसमें 99 रुपये में एक साल तक यूजर कंपनी की प्राइम सेवाओं का लाभ ले सकता है.
  • इसमें VoLTE सर्विस के तहत वॉयस कॉल फ्री मिलती है.
  • कंपनी ने इस एक साल में कई ऐसे प्लान उतारे जिसका फायदा प्राइम यूजर्स को ही मिल सकता था या मिलता है.
  • जियो के एप सूट्स की फ्री एक्सेस दी जाती है.

प्राइम मेंबरशिप सर्विस के मायने

जियो ने जब अपनी फ्री सेवाएं खत्म की तो इसके बाद अपने यूजर्स को बांधे रखने के लिए जियो ने प्राइम मेंबरशिप सर्विस शुरु की थी साथ ही ये वादा ग्राहकों से किया गया था कि ऐसे खास यूजर्स को काफी फायदे की डील मिलेगी. इसके तहत कंपनी ने कई सस्ते-किफायती प्लान उतारे.

Show Buttons
Hide Buttons