HSSC में नौकरी घोटाले को लेकर हुआ बड़ा खुलासा

हरियाणा स्टाफ सिलेक्शन कमीशन में हुए नौकरी घोटाले में खुलासा हुआ है कि यह नैक्सस अफसरों के घर तक से ऑपरेट हो रहा था। सारी डीलिंग मोबाइल फोन पर होती थी। ड्राइवर की भर्ती के लिए 3-4 लाख व क्लर्क के लिए 10 लाख रुपए तक वसूले जाते थे। इस मामले में गिरफ्तार सभी 8 लोगों को एसआईटी ने 4 दिन के रिमांड पर लिया है। केस की जांच अब क्राइम ब्रांच पंचकूला को सौंप दी है। अब आरोपियों के बैंक खाते और प्रॉपर्टी की भी जांच होगी।

तीन जगह छापा मारा, कैश और लैपटॉप बरामद

क्राइम ब्रांच की तीन टीमें जांच में जुट गई हैं। तीन आरोपियों के यहां छापा मारकर लाखों रुपए कैश, दो लैपटॉप, एक डायरी व कुछ बिल बरामद किए हैं। पंचकूला से कुछ डाटा बरामद किया है जिसमें कुछ पेपर्स की डिटेल है। ये वो पेपर और रिजल्ट हैं जो पिछले छह महीने में हुए हैं। इसके अलावा जांच टीम बरामद की गई 22 से ज्यादा हार्ड डिस्क के डाटा को एक जगह इकट्‌ठा करने में लगी हैं जिनमें पिछले डेढ़ साल की भर्तियों का डाटा है।

आरोपी सुपरिंटेंडेंट का बेटा रहा था भर्ती में टॉपर

आरोपी सुभाष पराशर का बेटा अंकुश म्युनिसिपल कमेटी में सचिव बना है। दाे महीने पहले जारी रिजल्ट में वह टॉपर रहा था। उसे रिटन में सबसे ज्यादा 174 नंबर मिले थे। इंटरव्यू में भी 25 में से 17 नंबर दिए गए। हालांकि इंटरव्यू में दो उम्मीदवारों को अंकुश से ज्यादा 21-21 नंबर मिले लेकिन चयन उसका हुआ।

भ्रष्टाचारी नहीं बचेंगे

सीएम मनोहर लाल खट्‌टर ने मामले पर कहा कि भ्रष्टाचारियों को सजा जरूरत मिलेगी। मैं भी किसी मामले में लिप्त हुआ तो भी कार्रवाई होगी। कोई बच नहीं पाएगा। भ्रष्टाचार को पनपने नहीं दिया जाएगा।

किस पोस्ट के कितने रेट

ड्राइवर- 3 लाख से 4 लाख
क्लर्क- 4 लाख से 5 लाख
क्लर्क (जनरल)- 10 लाख
ग्रिड ऑपरेटर- 6 लाख
टाइपिंग टेस्ट -7 लाख रुपए
कंडक्टर भर्ती- 3 लाख
Show Buttons
Hide Buttons