ATM कार्ड रखने के ये फायदे नहीं जानते होंगे आप

आज की दुनिया में ATM का उपयोग एक आम बात है। आज हम आपको ATM से जुड़े तथ्यों के बारे में बताने जा रहे हैं जो शायद ही आप जानते होंगे। ATM का फुलफॉर्म Automated Teller Machine है। ATM को कई अलग नाम से जाना जाता है। UK और New Zealand में इसे Cash-Point या Cash-Machine कहते हैं। वहीं Australia और Canada में इसे Money-Machine कहते हैं। बीते सालो में ATM सर्विस लगभग सभी देशों में पहुँच चुकी है।

ATM कार्ड आपको कभी भी पैसे ही उपलब्ध नहीं करवाता बल्कि और भी कई बड़ी सुविधाएं हैं, वे भी ऐसी सुविधाएं जिनके लिए आपको अलग से कोई चार्ज नहीं देना। इन सुविधाओं की जानकारी न बैंक देता है न एटीएम किट देने वाला एजेंट।

यदि आपके पास किसी प्राइवेट या गवर्नमेंट बैंक का एटीएम कार्ड है तो आपको फ्री में एक्सीडेंटल इन्श्योरेंस मिला हुआ है। दुर्घटना होने पर आप संबंधित बैंक से इन्श्योरेंस की तहत मिलने वाली रकम ले सकते हैं। अधिकांश लोगों को इन नियमों की जानकारी नहीं, क्योंकि बैंक यह डिटेल आम लोगों को नहीं बताते।

कैसे लें क्लेम

ATM इंश्योरेंस क्लेम के लिए एटीएम धारक को 2 से 5 माह के अंदर क्लेम करना होता है. यदि किसी व्यक्ति की एक्सीडेंटल डेथ होती है तो उसे संबंधी को 2 से 5 माह के भीतर बैंक की उस ब्रांच में जाना होगा, जहां मृतक का अकाउंट है. उसी ब्रांच में मुआवजे के लिए एप्लीकेशन भी देना होगा. मुआवजा देने के पहले बैंक क्रॉस चेक करेता है कि मृतक व्यक्ति ने पिछले 60 दिनों में कोई वित्तीय लेनदेन किया है या नहीं. इस इन्श्योरेंस के तहत विकलांगता से लेकर मौत होने तक पर अलग-अलग तरह के मुआवजे का प्रावधान है.

क्लेम के लिए डॉक्युमेंटेशन

1. कोई भी दुर्घटना होते ही सबसे पहले पुलिस को इसकी जानकारी दें। पुलिस रिपोर्ट में दुर्घटना से जुड़े सभी तथ्यों का जिक्र होना चाहिए।

2.  जिस व्यक्ति का एक्सीडेंट हुआ है उससे जुड़ी सारी जानकारी और डॉक्यूमेंट होने चाहिए। अगर संबंधित व्यक्ति हॉस्पिटल में है तो उसके मेडिकल डाक्यूमेंट हों।

3. अगर व्यक्ति की मौत हो गई है तो उसकी पोस्टमार्टम रिपोर्ट, पुलिस रिपोर्ट, डेथ सर्टिफिकेट और ड्राइविंग लाइसेंस होना चाहिए।

एटीएम कार्ड का होता है इन्श्योरेंस

सरकारी से लेकर प्राइवेट बैंकों तक सभी अपने ग्राहकों को एटीएम पर एक्सीडेंटल हॉस्पिटलाइजेशन कवर और एक्सीडेंटल डेथ कवर देते हैं. यह इंश्योरेंस 50 हजार रुपए से लेकर 10 लाख रुपए तक का होता है. इसका फायदा उन ग्राहकों को मिलता है जिसका बैंक अकाउंट ऑपरेशनल होता है.

कैसे पता करें कितना बीमा है

साधारण एटीएम, मास्टरकार्ड, क्लासिक एटीएम पर अलग-अलग तरह की मुआवजा राशि मिलती है. ऐसे में आप अपने बैंक में जाकर पता कर सकते हैं कि आपके कार्ड पर कितने बीमा है और कौन सी श्रेणी के तहत वह आपको मिल सकता है. क्लेम के लिए कौन सी संबंधित चीजें आपको चाहिए.

Show Buttons
Hide Buttons