ख़ुशख़बरी : 1 अप्रैल से मिलेगा बिहार के छात्रों को नए स्टूडेंट क्रेडिट कार्ड योजना का लाभ

बिहार में स्टूडेंट क्रेडिट कार्ड को अब नए रूप में पेश किया जाएगा. स्टूडेंट क्रेडिट कार्ड के नए अवतार को वित्तीय वर्ष 2018-19 के पहले दिन यानी की 1 अप्रैल 2018 से ही शुरु किया जा रहा है. हालांकि यह योजना पहले से ही चल रही थी लेकिन अच्छा रिस्पांस नहीं मिलने के बाद इसमें कई तब्दीलियां की गई है. नए अवतार में योजना काफी आकर्षक होगी. इस योजना से छात्रों के अलावा कई अन्य लोगों को भी फायदा मिलेगा. क्योंकि इसमें हर वर्ग को ध्यान में रख कर बदलाव की गयी है. योजना में बदलाव किये जाने के बाद से छात्रों में उत्साह भी देखा जा रहा है.

दरअसल सरकार ने  कम दर पर लोन मुहईया कराने जा रही है, जिससे छात्र और छात्राओं में काफी खुशी दिख रही है.प्रदेश सरकार ने 27 मार्च को कैबिनेट की बैठक में स्टूडेंट क्रेडिट कार्ड की योजना की नई गाइडलाइन को मंजूरी दी थी. जिसके तहत कम दरों पर छात्राओं, दिव्यांगों और ट्रांस्जेंडरों को लोन दिया जाएगा. वहीं, सामान्य छात्रों को भी कम दर पर लोन दिया जाएगा. इससे छात्रों को नौकरी तलाशने का पूरा समय मिलेगा.

सरकार की नई योजना के तहत राज्य के छात्राओं, दिव्यांगों और ट्रांस्जेंडरों को 4 लाख रुपये तक का शिक्षा कर्ज मात्र 1 फीसदी ब्याज पर दिया जाने का प्रावधान किया गया है. साथ ही सामान्य वर्ग के छात्रों को 4 फीसदी ब्याज दर पर इजुकेशन लोन दिया जाएगा. इसके अलावा जो बिहार के मूल निवासी हैं और उन्होंने यूपी, झारखंड या पश्चिम बंगाल से 10वीं किया हो तो उनको भी स्टूडेंट क्रेडिट कार्ड के तहत लोन दिया जाएगा. इस लोन की अदायगी वित्त निगम के माध्यम से होगी. इस योजना का लाभ 1 अप्रैल से ही लागू किया जा रहा है.

इन सबके अलावा हाई एजुकेशन के लिए एजुकेशन लोन के लिए मंजूरी मिल चुकी है. इसके तहत बीएससी, इंजीनियरिंग, मेडिकल, मैनेजमेंट और नर्सिंग सहित 36 कोर्स के लिए लोन का प्रावधान किया गया है. पीजी और उससे ऊपर की पढ़ाई के लिए लोन लेने की उम्रसीमा 25 से बढ़ाकर 30 वर्ष कर दिया गया है.
Show Buttons
Hide Buttons