सुप्रीम कोर्ट ने कांग्रेस को दिया झटका

नई दिल्लीः गुजरात राज्यसभा चुनाव से पहले कांग्रेस को सुप्रीम कोर्ट का बड़ा झटका लगा है. गुरुवार को कोर्ट ने गुजरात में होने वाले राज्यसभा चुनाव के दौरान नोटा (NOTA) के प्रयोग को अनुमति देने वाली निर्वाचिन आयोग की अधिसूचना पर स्थगन (स्टे) लगाने से इंकार किया.नोटा का मतलब होता है नन ऑफ द एबव यानी विधायको को इनमें से कोई नहीं चुनने का विकल्प होगा.

हालांकि उच्चतम न्यायालय  चुनाव में नोटा (NOTA) का विकल्प देने संबंधी निर्वाचन आयोग की अधिसूचना की संवैधानिक वैधता की समीक्षा करने पर सहमत हुआ. कोर्ट ने गुजरात राज्यसभा चुनाव में NOTA के इस्तेमाल के खिलाफ गुजरात कांग्रेस की याचिका पर चुनाव आयोग को नोटिस जारी करके जवाब मांगा है.

सुप्रीम कोर्ट ने कहा है कि हम पूरे मामले की संवैधानिकता परखेंगे. इसलिए अभी कोई अंतरिम आदेश नहीं दे सकते. सुप्रीम कोर्ट ने यह भी कहा कि चुनाव आयोग ने जनवरी 2014 में पहली बार सर्क्युलर जारी किया था.इस मामले पर सुप्रीम कोर्ट ने चुनाव आयोग को नोटिस दिया है.और इस मामले की अगली सुनवाई अब 13 सितंबर को होगी.

क्यों है कांग्रेस को आपत्ति?

सूत्रों के मुताबिक, एक के बाद एक गुजरात कांग्रेस के विधायकों के इस्तीफों से परेशान कांग्रेस अपने 44 विधायकों को बेंगलूरु तो ले गयी लेकिन पार्टी को लगता है कि नोटा का विकल्प इसीलिए दिया जा रहा है ताकि जो विधायक टूट नहीं सके वो आखिरकार इस तरह से कांग्रेस नेता अहमद पटेल के पक्ष में वोट ना डालें.कांग्रेस सूत्रों के मुताबिक बीजेपी ये साजिश अहमद पटेल को हराने के लिए कर रही है, कांग्रेस इस मामले को लेकर चुनाव आयोग भी गई थी.

 

 

Show Buttons
Hide Buttons