सीलिंग के विरोध में आज ठप रहेंगी व्‍यापारिक गतिविधियां

दिल्‍ली में सीलिंग के विरोध में मंगलवार को व्‍यापारियों ने बंद आहूत किया है, जिस दौरान दिल्‍ली में सभी थोक व खुदरा बाजार बंद रखने का ऐलान किया गया है। कंफेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स (CAIT) की ओर से जारी एक बयान में कहा गया कि सीलिंग के विरोध में सात लाख से अधिक व्‍यापारी आज बाजार बंद रखेंगे। बंद में करीब 2,500 ट्रेडर्स एसोसिएशंस हिस्‍सा ले रहे हैं। इस बंद के तहत मंगलवार को चांदनी चौक, कनाट प्लेस, लाजपत नगर, अमर कॉलोनी, खान मार्केट, साउथ एक्‍सटेंशन, ग्रेटर कैलाश, करोल बाग, सदर बाजार, कमला नगर, अशोक विहार, विकास मार्ग, प्रीत विहार, मॉडल टाउन, आजादपुर, कालकाजी और अन्‍य बाजार बंद रखे जाएंगे।

सीलिंग के विरोध में पिछले महीने भी दिल्‍ली में दो और तीन फरवरी को व्‍यापारियों ने बंद रखा था। यहां सीलिंग दिसंबर 2017 में शुरू हुआ था, जिसका व्‍यापारी विरोध कर रहे हैं। CAIT के महासचिव प्रवीण खंडेलवाल ने बताया कि करोल बाग में ‘व्‍यापारी पंचायत’ होगी, जिसमें हजारों व्‍यापारियों के शामिल होने की उम्‍मीद है।

व्‍यापारी केंद्र सरकार से मौजूदा संसद सत्र में सीलिंग रोकने के लिए विधेयक लाने की मांग कर रहे हैं। उन्‍होंने दिल्‍ली के मुख्‍यमंत्री अरविंद केजरीवाल से भी मांग की है कि वह एक दिन के लिए विधानसभा का विशेष सत्र बुलाकर दिल्‍ली में सीलिंग रोकने का प्रास्‍ताव पारित करें। खंडेलवाल के अनुसार, ‘दिल्‍ली में व्‍यापार करना मुश्किल हो गया है। यदि इसी तरह जारी रहा तो व्‍यापारी अपना व्‍यवसाय नोएडा, फरीदाबाद, गुड़गांव, बहादुरगढ़, सोनीपत जैसे आसपास के शहरों में ले जाने पर मजबूर हो जाएंगे।’

इस बीच, दिल्‍ली में सीलिंग के कारण व्‍यापारियों को पेश आ रही समस्‍याओं के समाधान के लिए मुख्‍यमंत्री केजरीवाल ने सर्वदलीय बैठक बुलाई है। लेकिन बीजेपी ने इसका बहिष्‍कार करने का फैसला लिया है। दिल्‍ली बीजेपी के महासचिव रविंद्र गुप्‍ता ने कहा कि पार्टी सर्वदलीय बैठक में शामिल नहीं होगी। उन्‍होंने इसकी वजह 30 जनवरी को सीएम आवास पर हुई एक बैठक को बताया। उन्‍होंने आरोप लगाया कि इस दौरान बीजेपी के कार्यकर्ताओं के साथ दुर्व्‍यवहार हुआ था। उन्‍होंने यह भी कहा कि इससे साबित हो गया है कि AAP ‘राजनीतिक संवाद’ में यकीन नहीं रखती। हालांकि दिल्‍ली कांग्रेस के अध्‍यक्ष अजय माकन ने सर्वदलीय बैठक में शामिल होने की बात कही है।

Show Buttons
Hide Buttons