सरकार के एक्शन का असर

नई दिल्ली: मोदी सरकार शेल (फर्जी) कंपनियां बनाकर ब्लैकमनी खपाने के खिलाफ मुहिम चला रही है। इस कार्रवाई के तहत पिछले एक महीने में देशभर की एक लाख से ज्यादा जाली कंपनियां बंद हुई हैं। कॉरपोरेट अफेयर्स मिनिस्ट्री से moneybhaskar.com को ये जानकारी मिली है। इसे 10 साल में हुई सबसे बड़ी कार्रवाई माना जा रहा है। इनमें ऐसी कंपनियों की हिस्सेदारी है, जो किसी तरह की एक्टिविटी नहीं करती हैं।

मिनिस्ट्री से मिली डिटेल के मुताबिक, जून में 1.03 लाख से ज्यादा शेल कंपनियां बंद हुईं, जो एक रिकॉर्ड है। पहले आमतौर पर एक महीने में 3-4 हजार ऐसी कंपनियां बंद होती थीं।

सूत्रों ने बताया कि इतनी बड़ी संख्या में कंपनियों के बंद होने की वजह रजिस्टार ऑफ कंपनीज ऑफिस की सख्त कार्रवाई है। संदिग्ध कंपनियों को टारगेट किया जा रहा है। इसके साथ ही कई कंपनियों ने सेक्शन 248 के तहत कंपनी बंद करने का प्रपोजल भी दिया है।    महीना बंद कंपनियों की संख्या मई 3,05386 जून 4,09188 एक महीने में बंद हुई कंपनियों की संख्या 1,03802   ब्लैकमनी का होता..

Show Buttons
Hide Buttons