श्रीदेवी की मौत सामान्य थी तो क्यों होटल के फ्रंट स्टाफ को बदला गया ?

दिल्ली के पूर्व एसीपी वेदभूषण ने श्रीदेवी की मौत को संदिग्ध बताते हुए सवाल खड़े किए हैं। दरअसल, वेद भूषण की निजी जांच एजेंसी पुलिस सॉल्यूशन इंडिया का दावा है कि उन्होंने दुबई के जुमेराह एमिरेट्स होटल में जाकर जांच की है जहां श्रीदेवी का निधन हुआ था। जिसके बाद उन्होंने दुबई पुलिस की कार्रवाई को महज खानापूर्ति बताया है।

वेद भूषण ने दावा किया कि श्रीदेवी की मौत के बाद होटल जुमेराह एमिरेट्स ने फ्रंट स्टाफ को बदल दिया है और जो नया स्टाफ आया है उसे इस मामले में चुप रहने को कहा है। स्टाफ को यह निर्देश भी है कि जिस रूम में श्रीदेवी की मौत हुई वह किसी को नहीं देना है। यहां तक कि होटल में प्राइवेट वीडियोग्राफी पर भी रोक लगा दी गई है। इसके बावजूद वो किसी तरह होटल की वीडियोग्राफी करके लाए हैं। उनका कहना है

जांच एजेंसी ने आगे कहा कि वर्ल्डवाइड इंवेस्टिगेशन का जो वैज्ञानिक तरीका होता है उसे फॉलो ही नहीं किया गया। न श्रीदेवी की कॉल डिटेल निकलवाई गई और न ही बोनी कपूर की कॉल डिटेल निकलवाने की जरुरत समझी गई।

यही नहीं ब्लड रिपोर्ट पर भी चर्चा नहीं की गई और न ही लंग्स कंडीशन की। जब कोई पानी में डूबता है तो उसके लंग्स में पानी जाता है। आखिर कोई यह क्यों नहीं बता रहा कि कितना पानी श्रीदेवी की बॉडी के अंदर गया?

गौरतलब है कि कुछ दिनों पहले फिल्ममेकर सुनील सिंह की ओर से सुप्रीम कोर्ट में कहा गया था कि ओमान में श्रीदेवी के नाम पर 240 करोड़ का बीमा हुआ था और उसके क्लेम के लिए उनकी मौत दुबई में होनी जरूरी थी।

जांच एजेंसी की टीम ने रूम नंबर 2208 में श्रीदेवी की मौत का सीन री-क्रिएट किया। गौरतलब है कि श्रीदेवी की मौत होटल के रूम नंबर 2201 में हुई थी जो इसके नीचे वाला रूम है। पुलिस सॉल्यूशन इंडिया की मानें तो होटल में उन्हें उस रूम में जाने की इजाजत नहीं दी गई।

Show Buttons
Hide Buttons