वेंकैया नायडू आज लेंगे उप-राष्ट्रपति पद की शपथ

नई दिल्ली: वेंकैया नायडू आज देश के 13वें उपराष्ट्रपति बनने जा रहे हैं. राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद आज उन्हें पद और गोपनियता की शपथ दिलाएंगे.नायडू आज सुबह 10 बजे राष्ट्रपति भवन में शपथ लेंगे. इस दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के अलावा सराकर के कई बड़े मंत्री भी मौजूद रहेंगे.

खेतिहर परिवार की पृष्ठभूमि से आने वाले एम वेंकैया नायडू ने देश का उपराष्ट्रपति निर्वाचित होने तक लंबा सफर तय किया है. आंध्र प्रदेश के नेल्लूर जिला स्थित एक कृषि परिवार में जन्मे नायडू (68) बीजेपी अध्यक्ष रह चुके हैं. उन्होंने कई मंत्रालयों का पदभार भी संभाला है और लंबे समय तक राज्य सभा सदस्य रहे हैं. उनका उल्लेखनीय करियर चार दशक से अधिक लंबा रहा है.

मोदी सरकार में कई पदों पर रहे नायडू

कभी आडवाणी के करीबी रहे नायडू ने 2014 के आम चुनाव में प्रधानमंत्री पद के लिए नरेन्द्र मोदी का जोर शोर से समर्थन किया. वह मोदी सरकार में सूचना एवं प्रसारण मंत्री और आवास एवं शहरी विकास मंत्री की जिम्मेदारी संभाल रहे थे. इससे पहले वह संसदीय कार्य मंत्री का पदभार भी संभाल चुके हैं.

 

अटल-आडवाणी के पोस्टर लगाते थे नायडू

नायडू का राजनीतिक करियर उस वक्त शुरू हुआ, जब भाजपा के पूववर्ती संगठन जन संघ की दक्षिण भारत में बहुत कम मौजूदगी थी और उस वक्त पार्टी के एक युवा कार्यकर्ता होने के नाते वह अटल बिहारी वाजपेयी और लाल कृष्ण आडवाणी जैसे दिग्गजों के पोस्टर चिपकाया करते थे.आपातकाल के दौरान नायडू एबीवीपी के कार्यकर्ता थे. वह गिरफ्तार हुए थे और जेल गए थे

लगातार दो बार रहे बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष

नायडू जुलाई 2002 से अक्तूबर 2004 तक दो बार लगातार भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष रहे थे. साल 2004 के आम चुनाव में पार्टी की हार के बाद उन्होंने यह पद छोड़ दिया था. वाजपेयी के नेतृत्व वाली पिछली राजग सरकार में वह ग्रामीण विकास मंत्री थे.

 

2 तिहाई से ज्यादा वोट हासिल कर जीता उपराष्ट्रपति चुनाव

उपराष्ट्रपति पद के लिए हुए चुनाव में वेंकैया ने दो तिहाई से अधिक वोट प्राप्त करके विपक्ष के उम्मीदवार गोपाल कृष्ण गांधी को पराजित किया. वेंकैया नायडू को 516 वोट मिले जबकि गोपाल कृष्ण गांधी को 244 वोट प्राप्त हुए.

Show Buttons
Hide Buttons