रेवाड़ी के कई अस्पतालों पर इनकम टैक्स के छापे, 22 लाख रुपये नगद बरामद

रेवाड़ी :  रेवाड़ी के दो निजी अस्पतालों पर बुधवार को गुड़गांव इनकम टैक्स विभाग की इनवेस्टीगेशन विंग ने छापा मारा। एक अस्पताल समूह के विभिन्न परिसरों से करीब 22 लाख रुपये नगद बरामद किए हैं.

छापेमार कार्रवाई के दौरान टीम ने अस्पतालों का रिकॉर्ड खंगाला। रिकॉर्ड में किसी तरह की खामी या अनियमितता का खुलासा टीम द्वारा नहीं किया गया था।बता दें कि ये दोनों अस्पताल स्वराज इंडिया के प्रमुख एवं किसान नेता योगेंद्र यादव की बहन और बहनोई के हैं।

यादव ने ट्वीट में कहा, ‘दिल्ली के 100 से अधिक अधिकारियों ने सुबह 11 बजे अस्पताल पर छापा मारा. सभी डॉक्टरों (मेरी बहनें, बहनोई, भांजे) को उनके कमरों में रखा गया. नवजातों के लिए बने आईसीयू समेत अस्पताल को सील कर दिया गया.’

22 लाख रुपये की इस नकद राशि के स्रोत की जांच 

  • जब आयकर विभाग के आरोपों के बारे में योगेंद्र यादव से पूछा गया तो उन्होंने कहा, “सवाल यह है कि क्या यह राशि बिना किसी लेखा-जोखा की है? मैं अस्पतालों के खातों के बारे में नहीं जानता.”
  • विभाग ने योंगेंद्र यादव के इन आरोपों का खंडन किया कि विभाग की छापेमारी टीमों ने अस्पताल और आईसीयू सील कर दिया.
  • अधिकारियों ने कहा कि अस्पतालों समेत तलाशी लिए गए परिसरों के सभी सीसीटीवी चालू रखे गए थे और उन्होंने तलाशी प्रक्रिया की रिकार्डिंग भी की है.
  • योगेंद्र यादव ने यह भी आरोप लगाया है कि उन्हें धमकाने और उनका मुंह बंद करने की मंशा से छापे मारे गए हैं क्योंकि उन्होंने किसानों के लिए उचित फसल दाम के लिए तथा हरियाणा में उस शहर में शराब की दुकानों के खिलाफ आंदोलन छेड़ा था. दो दिन पहले ही उनकी नौ दिवसीय पदयात्रा समाप्त हुई थी.
Show Buttons
Hide Buttons