महान वैज्ञानिक स्टीफन हॉकिंग का 76 साल की उम्र में निधन

सदी के महान वैज्ञानिक स्टीफन हॉकिंग का बुधवार को 76 वर्ष की उम्र में निधन हो गया। उनके निधन की जानकारी उनके प्रवक्ता ने दी। बताया जा रहा है कि स्टीफन हॉकिंग लंबे समय से अस्वस्थ चल रहे थे। नोबल पुरस्कार से सम्मानित हॉकिंग की गिनती दुनिया के महान भौतिक वैज्ञानिकों में होती है। उनका जन्म इंग्लैंड में आठ जनवरी 1942 को ऑक्सफोर्ड में जन्म हुआ था।

हॉकिंग के बच्चों लूसी, रॉबर्ट और टिम ने अपने बयान में कहा, ‘हम अपने पिता के जाने से बेहद दुखी हैं।’ स्टीफन हॉकिंग ने ब्लैक होल और बिग बैंग सिद्धांत को समझने में अहम योगदान दिया है। उनके पास 12 मानद डिग्रियां हैं। हॉकिंग के कार्य को देखते हुए अमेरिका का सबसे उच्च नागरिक सम्मान उन्हें दिया जा चुका है।

1974 में ब्लैक हॉल्स पर असाधारण रिसर्च करके उसकी थ्योरी मोड़ देने वाले स्टीफन हॉकिन्स साइंस की दुनिया के सेलेब्रेटी थे। इस वैज्ञानिक के दिमाग को छोड़कर उनके शरीर का कोई भी भाग काम नहीं करता था। विश्व प्रसिद्ध महान वैज्ञानिक और बेस्टसेलर रही किताब ‘अ ब्रीफ हिस्ट्री ऑफ टाइम’ के लेखक स्टीफन हॉकिंग ने शारीरिक अक्षमताओं को पीछे छोड़ते हु्ए यह साबित किया कि अगर इच्छा शक्ति हो तो व्यक्ति कुछ भी कर सकता है।

स्टीफन हॉकिन्स की महत्वपूर्ण किताबें  : ए ब्रीफ हिस्ट्री ऑफ टाइम, द ग्रांड डिजाइन ,यूनिवर्स इन नटशेल ,माई ब्रीफ हिस्ट्री ,द थ्योरी ऑफ एवरीथि‍ंग

Show Buttons
Hide Buttons