बेरहम मकान मालिक ने लिया 4 साल के बच्चे से ऐसे बदला

पानीपत : रिफाइनरी रोड पर बतरा कॉलोनी में 2 अप्रैल को घर से लापता हुए 4 साल के विवेक की लाश 4 अप्रैल को घर से करीब 30 मीटर दूर सोनीपत के नाहरा गांव के पास पश्चिमी यमुना नहर में मिली थी। लाश के हाथ-पैर बांधकर मुंह में कपड़ा भी ठूंसा दिया। शुक्रवार को मामले में आरोपी को गिरफ्तार कर लिया गया है। दरअसल मृतक बच्चे के पिता विकास पासवान ने अपने मकान मालिक रामनिवास के बेटे प्रतीक को थप्पड़ मार दिया था। इसका बदला लेने के लिए उसने इस वारदात को अंजाम दिया।

बेटे विवेक को छत पर खेलता छोड़ गया था परिवार

बिहार के दरभंगा जिला के रहने वाले विकास पासवान परिवार समेत बतरा कॉलोनी में किराए पर रहता है। वह गोपाल कॉलोनी में सच धर्मकांटा पर काम करता है। सोमवार शाम को बड़े बेटे कृष्ण और बेटी संगम का स्कूल में एडमिशन कराने पत्नी सोनम समेत चला गया। 4 साल के बेटे विवेक को वह छत पर खेलता छोड़ गया था। करीब 7 बजे घर पहुंचा तो विवेक नहीं मिला। छत पर मकान मालिक के बेटे ने कबाड़ देकर उसे कचरी लेने के लिए भेजा था। इसके बाद से उसका कोई पता नहीं चल सका।

मकान मालिक ने कमरे में लगे ताले खोलने से किया था इंकार

– पिता विकास ने बताया था कि जिस मकान में वे रहते हैं उसमें कुल 28 कमरे बने हुए हैं। पहली मंजिल पर मालिक परिवार समेत रहता है। सभी 28 कमरों में बेटे की तलाश करने मालिक कमरों में भी गए।

– दो कमरों में ताले लगे हुए थे। एक कमरे में दो ताले लगे थे। खोलने के लिए कहा तो मना कर दिया। बोला कि कमरे में कबूतर हैं और दूसरे कमरे में सामान रखा है। रात ढाई बजे कमरा खुला था।

– दो दिन तक परिवार के किसी भी सदस्य ने बेटे को तलाश करने के लिए कोई कोशिश नहीं की। बेटे के लापता होने के बाद तलाश के लिए उसका ई-रिक्शा मांगा तो उसने मना कर दिया।

किराएदार ने मकान मालिक के बेटे को मारा था थप्पड़, 4 साल के बच्चे की हत्या कर लिया बदला

मकान मालिक की लड़की को लेकर हो चुका है विवाद

– मृतक बच्चे के पिता ने बताया कि वह करीब एक साल पहले ही बतरा काॅलोनी में रहने आया था। कुछ समय बाद उसका भाई शिवशंकर भी आकर रहने लगा। उसने 4 कमरे ले रखे थे। एक कमरे का करीब 2000 रुपए महीना किराया देता था।

– करीब दो माह पहले शिवशंकर छत पर खड़ा था। गली में मकान मालिक की लड़की खड़ी थी। तभी मकान मालिक का लड़का बोला कि नीचे क्या देख रहा है। इसके बाद मकान मालिक और उसके बेटे ने शिवशंकर से मारपीट की। – परिजनों ने विकास को फोन किया तो वह धर्मकांटा से घर पहुंच गया। विकास के साथ भी बाप-बेटे ने गाली-गलौज की। विकास कमरे छोड़ने लगा तो मालिक के दो भाइयों ने गलती मानी और गारंटी ली। विकास परिवार सहित 10 अप्रैल को अपने गांव जाने वाला था। मालिक का बेटा पहले बाइक चोरी और अन्य धाराओं में जेल जा चुका है।

बच्चे के हाथ-पैर में बंधी रस्सी जैसी हूबहू मकान मालिक के कमरे में भी मिली थी

विवेक करीब 3 घंटे से लापता था। इसलिए घर के बाहर भीड़ जमा थी। इस दौरान आरोपी प्रतीक भी भीड़ का हिस्सा बन गया था। पुलिस हिरासत में भी वह झूठ बोलकर पुलिस काे गुमराह करता रहा। बच्चे के लापता होने के बाद दो कमरों का ताला नहीं खोलने वाले मकान मालिक के परिवार पर ही पिता ने हत्या का शक जाहिर किया है। जिस रस्सी से बच्चे के हाथ-पैर बंधे हुए हैं, वैसी ही रस्सी मकान मालिक के कमरों में मिली थी। पुलिस ने रस्सी जब्त की थी।

पुलिस को गुमराह करता रहा आरोपी

पुलिस को जैसे ही पता चला कि प्रतीक ने बच्चे को कचरी लेने के लिए भेजा था तो भीड़ में खड़े प्रतीक से पूछताछ की गई। उसने यह तो कहा कि बच्चे को कचरी लेने के लिए भेजा था। कचरी लेकर भी आया, इसके बाद उसको बच्चे के बारे में पता नहीं। परिजन और पुलिस बच्चे को तलाशने में जुट गई, लेकिन आरोपी प्रतीक और उसके परिवार के सदस्य उनके साथ बच्चे की तलाश करने नहीं गए। पुलिस ने आरोपी प्रतीक को शुक्रवार को कोर्ट में पेश किया। जहां से उसको दो दिन की पुलिस रिमांड पर लिया गया है। पुलिस को आरोपी से रस्सी और बैग बरामद करना है।

पिता ने कहा- हत्या में कई लोग हैं शामिल

Show Buttons
Hide Buttons