फेसबुक डाटा लीक मामले में भाजपा और कांग्रेस के बीच तीखी नोंकझोंक का सिलसिला जारी

यूएस सीनेट के सामने फेसबुक संस्थापक मार्क जुकरबर्ग के माफी मांगने के बाद भाजपा ने कांग्रेस को निशाने पर लिया है। केंद्रीय सूचना एवं प्रसारण मंत्री रवि शंकर प्रसाद ने ट्वीट कर कांग्रेस अध्यक्ष को घेरते हुए कहा है कि इस मामले में राहुल गांधी को माफी मांगनी चाहिए।

डाटा लीक पर आपने-सामने भाजपा और कांग्रेस

बता दें कि ब्रिटिश डेटा एनालिटिक्स फर्म ‘कैंब्रिज एनालिटिका’ पर 5 करोड़ फेसबुक यूजर्स के डेटा चोरी का आरोप है। कैंब्रिज एनालिटिका के चुनावों के दौरान मतदाताओं को प्रभावित करने को लेकर भाजपा और कांग्रेस दोनों आमने-सामने हैं। दोनों दल इस दूसरे पर कैंब्रिज एनालिटिका की सेवा लेने का आरोप लगा रहे हैं।

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने भाजपा को निशाने पर लेते हुए कहा था कि इराक में मारे गए भारतीयों के मुद्दे से ध्यान भटकाने के लिए भाजपा ने फेसबुक लीक मामले में कांग्रेस का नाम उछाला है।

हालांकि उस वक्त भी केंद्रीय मंत्री और भाजपा के वरिष्ठ नेता रविशंकर प्रसाद ने कांग्रेस पर पलटवार किया था। प्रसाद ने आरोप लगाया था कि फेसबुक डेटा लीक मामले में आरोपी कंपनी कैंब्रिज एनालिटिका ही कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी का पूरा सोशल मीडिया कैंपेन संभालती है।

यूएस सीनेट के सामने जुकरबर्ग की माफी

डाटा लीक मामले के बाद से फेसबुक के संस्थापक मार्क जुकरबर्ग दुनियाभर के निशाने पर हैं। जिसके चलते मंगलवार को जुकरबर्ग अमेरिकी सीनेट के सामने पेश हुए। उन्होंने डाटा लीक की जिम्मेदारी लेते हुए सीनेट से माफी मांगी। उन्होंने कहा, ‘यह मेरी गलती है और मैं इसके लिए माफी मांगता हूं।

मैंने फेसबुक शुरू किया, मैं इसे चलाता हूं और यहां जो कुछ भी होता है उसके लिए मैं जिम्मेदार हूं।’ वहीं, जुकरबर्ग ने भारत में अगले साल होने वाले आम चुनावों के दौरान लोगों का भरोसा बहाल करने का आश्वासन दिया। उन्होंने कहा, भारत में आगामी चुनाव के दौरान पूरी ईमानदारी बरती जाएगी।

रविशंकर का ट्वीट, निशाने पर राहुल

उन्होंने ट्वीट में लिखा, ‘अब जबकि चुनावों में हेर-फेर करने में कैंब्रिज एनालिटिका की भूमिका स्पष्ट हो गई है और फेसबुक ने इस तरह के दुरुपयोग पर लगाम कसने और भारत में होने वाले चुनाव में ईमानदारी और अखंडता बनाए रखना का आश्वासन दिया है। ऐसे में नैतिकता के अाधार पर राहुल गांधी को माफी मांगनी चाहिए और मतदाताओं को भ्रमित नहीं करने और भविष्य में समाज को नहीं बांटने का वादा करना चाहिए।

Show Buttons
Hide Buttons