प्रदर्शनकारियों ने जमकर की तोड़फोड़- GT रोड समेत कई हाईवे 5 घंटे तक रहे जाम

चंडीगढ़/पानीपत : सात जिलों में तोड़फोड, लाठीचार्ज, फरीदाबाद में जनशताब्दी पर पथराव दलित संगठनों ने सभी जिलों में प्रदर्शन कर हाईवे जाम किए। कई जगह जबरदस्ती दुकानेंे बंद कराई गईं। कैथल, हिसार, यमुनानगर, करनाल, फरीदाबाद, पलवल, गुड़गांव में प्रदर्शनकारियों और पुलिस के बीच झड़पें हुई। पथराव कर रहे लोगों को पुलिस ने लाठीचार्ज कर खदेड़ा। कैथल में हालात सबसे ज्यादा खराब रहे। वहां प्रदर्शनकारियों ने जमकर तोड़फोड़ की। पुलिस पर पथराव कर दिया।

इन्हें काबू करने के लिए पुलिस को हवाई फायरिंग करनी पड़ी। इससे 70 से ज्यादा लोग घायल हो गए। वहीं, फरीदाबाद में तलवारें और डंडे लिए उपद्रवियों ने जनशताब्दी एक्सप्रेस पर पथराव कर 20 कोच के शीशे तोड़ दिए। इससे 12 से अधिक यात्री घायल हुए हैं। करीब 50 हजार रेल यात्री पौने छह घंटे तक फंसे रहे। पानीपत में जीटी रोड और हिसार में नेशनल हाईवे पर करीब 5 घंटे तक जाम लगाए रखा। इससे कुछ लोगों की फ्लाइट छूट गई। सरकारी व प्राइवेट सभी बैंक बंद रहे।

प्रदेश के जिलों में इस तरह दिखा बंद का असर

कैथल : भीड़ ने पुलिस को दौड़ाकर पीटा, लाठी-डंडे लेकर 6 घंटे उत्पात

दलित संगठनों ने हजारों की संख्या में हाथों में डंडे व लाठी लेकर करीब छह घंटे तक उत्पात मचाया। जाम व प्रदर्शन के दौरान पुलिस ने उन्हें रोकने का प्रयास किया तो पुलिस पर पथराव कर दौड़ा-दौड़ाकर पीटा। सार्वजनिक व निजी संपत्ति की तोड़फोड़ की। पुलिस और प्रदर्शनकारियों के बीच कई बार पत्थरबाजी व झड़पें हुई। पुलिस ने भीड़ को खदेड़ने के लिए आंसू गैस के गोले भी फेंके। लाठीचार्ज व हवाई फायरिंग भी की, लेकिन प्रदर्शनकारी नहीं हटे। पथराव, लाठीचार्ज व फायरिंग और झड़पोंं में करीब 100 से अधिक लोग जख्मी हो गए। इनमें इंस्पेक्टर से लेकर करीब 50 पुलिस कर्मी भी शामिल हैं।

यमुनानगर: प्रदर्शन के बाद जब पुलिस ने हटाना चाहा तो भिड़ गए प्रदर्शनकारी लोग

प्रदर्शन के बाद घर लौट रहे दलित संगठन के लोगों ने जगाधरी बस स्टैंड चौक पर जाम लगा दिया। पुलिस ने उन्हें रोड से हटाने का प्रयास किया तो उन्होंने पथराव शुरू कर दिया। बवाल बढ़ने पर पुलिस को लाठीचार्ज करना पड़ा। इस दौरान प्रदर्शनकारियों ने पुलिस की दो, एक हरियाणा रोडवेज और एक हिमाचलप्रदेश रोडवेज की बस में तोड़फोड़ की। आधा दर्जन प्राइवेट वाहनों में तोड़फोड़ की। पथराव में 11 पुलिस कर्मी घायल हो गए। पुलिस ने एक दर्जन प्रदर्शनकारियों को हिरासत में लिया है। डीएसपी राजेंद्र सिंह ने बताया कि रोड जाम करने वालों ने पुलिस व जनता पर पथराव किया। पुलिस ने हल्का बल प्रयोग किया है।

रोहतक: 75 फीसदी दुकानें बंद कराई, रोडवेज बसों को रुकवाया

जिला मुख्यालय और ग्रामीण क्षेत्रों में सोमवार को भारत बंद के दौरान लगभग 75 फीसदी दुकानें बंद रहीं। किसी अनहोनी की आशंका में मुख्य रास्तों की 25 फीसदी दुकानों के शटर सुबह से ही नहीं खुले। प्रदर्शनकारियों ने बाल्मीकि चौक समेत 8 स्थानों पर जाम लगाया। शौरी मार्केट, भिवानी स्टैंड, रेलवे रोड, किला रोड व मॉडल टाउन आदि प्रमुख बाजारों में घूमकर दुकानें बंद करवाई। विरोध करने वालों को धमकाया भी गया। शहर के चारों ओर से अलग अलग ग्रुप में नारेबाजी करते हुए लोग अंबेडकर चौक पहुंचे, जहां सुबह 11:30 बजे सभा हुई। दोपहर 1:30 बजे डीसी व एसपी काे ज्ञापन सौंपे जाने तक वक्ताओं ने प्रदेश व केंद्र सरकार की तीखी आलोचना की।

कुरुक्षेत्र : पिपली में तीन घंटे से ज्यादा हाईवे जाम, 5 बजे बहाल हुई बस सर्विस

पिपली में तीन घंटे से ज्यादा जीटी रोड जाम रखा। जाम के चलते कई बार तनावपूर्ण स्थिति हुई, लेकिन पुलिस ने मौन साधे रखा। ट्रेनों का परिचालन भी प्रभावित रहा। करनाल में प्रदर्शन को देखते हुए जहां दिल्ली जा रही पठानकोट एक्सप्रेस सवा घंटा कुरुक्षेत्र जंक्शन पर रुकी रही। वहीं नरवाना कुरुक्षेत्र रूट पर दे पैसेंजर ट्रेनों को रद्द कर दिया गया। उधर शाम पांच बजे जाकर बस सर्विस बहाल हुई। पिपली में जाम खुलवाने को पुलिस प्रशासन के भी पसीने छूटे रहे। पहले पैराकीट में डीसी व एसपी के साथ समाज के प्रतिनिधियों की बैठक हुई। बाद में धरना स्थल पर बुलाकर ज्ञापन दिया। हालांकि इसके बाद अधिकांश लोग वहां से निकल गए, लेकिन कुछ लोग वहीं डटे रहे। पुलिस ने जबरन हटाया।

फरीदाबाद: डंडों व तलवारों से लैस उपद्रवियों ने जनशताब्दी पर पथराव किया

डंडों व तलवारों से लैस उपद्रवियों ने रेलवे ट्रैक व हाईवे को जाम कर लिया। जनशताब्दी एक्सप्रेस पर पथराव कर 20 कोच के शीशे तोड़ दिए। इसमें दर्जनभर से अधिक यात्री घायल भी हो गए। सुबह 11 से दोपहर 4.40 बजे तक फरीदाबाद-पलवल सेक्शन में ट्रेनों का परिचालन पूरी तरह से बंद रहा। बाटा चौक व अजरौंदा चौक पर जाम खुलवाने पहुंची पुलिस टीम पर पथराव कर दिया। पुलिस ने लाठीचार्ज कर उपद्रवियों को भगाया। टाउन नंबर तीन के मस्जिद चौक पर उपद्रवियों ने पथराव कर दो पुलिसकर्मियों को घायल कर दिया।

हिसार : 7 वाहनों के शीशे तोड़े, एसएचओ का सिर फोड़ा, डीएसपी समेत 4 पुलिसकर्मी घायल

विभिन्न दलित संगठन प्रतिनिधियों के नेतृत्व में सैकड़ों की संख्या में दलित समुदाय के लोग सोमवार सुबह करीब नौ बजे क्रांतिमान पार्क में एकत्रित हुए। प्रदर्शनकारियों ने जबरन दुकानों को बंद करवाया। 7 वाहनों के शीशे तोड़ डाले। इनमें सरकारी व निजी बसें शामिल हैं। पुराने रेलवे पुल पर प्रदर्शनकारियों ने जाम लगा दिया। पुलिस ने रास्ता खोलने के लिए कहा तो पथराव कर दिया। इसमें डीएसपी समेत 3-4 मुलाजिम घायल हो गए। एक युवक ने सिटी थाना एसएचओ ललित कुमार के माथे पर रॉड मारकर घायल कर दिया।

एक युवक ने ग्रिल से कांस्टेबल राकेश पर हमला करके घायल कर दिया। प्रदर्शनकारियों को नियंत्रित करने के लिए पुलिस ने लाठीचार्ज करना पड़ा। आंसू गैस के गोले दागे गए। एक-एक को घेरकर पुलिस कर्मियों ने पीटा। तब जाकर प्रदर्शनकारी तितर-बितर हुए। हंगामे के बाद रोडवेज प्रशासन ने दोपहर करीब साढ़े 12 बजे से ढाई बजे तक बस सेवा बंद रखी।

Show Buttons
Hide Buttons