पाकिस्‍तान की जेल में बंद कुलभूषण जाधव से मिलने पहुंचीं उनकी मां और पत्‍नी

जासूसी के आरोप में पाकिस्तान की जेल में बंद भारत के पूर्व कमांडर कुलभूषण जाधव ने आज क्रिसमस के मौके पर अपनी मां और पत्नी से मुलाकात की. कुलभूषण की मां और पत्नी दोपहर 12 बजे मुंबई से इस्लामाबाद पहुंचीं. इस्लामाबाद में सबसे पहले वे भारतीय दूतावास गईं. उसके बाद विशेष सुरक्षा के बीच उन्हें विदेश मंत्रालय लाया गया. जहां करीब 30 मिनट उन्हें जाधव से मुलाकात की.इस दौरान भारतीय उप उच्चायुक्त जेपी सिंह मौजूद रहे.

कुलभूषण और परिवार के बीच मुलाकात कहां, किस समय और किस तरह होगी, इसके एक-एक बिंदू पर रविवार को भारत और पाकिस्तान के बीच विचार-विमर्श हुआ था. सफेद लैंड क्रूजर गाड़ी में कड़ी सुरक्षा के बीच इन दोनों को पहले भारतीय हाईकमिशन ऑफिस ले जाया गया.

क्या है कुलभूषण जाधव मामला?

पाक की मिलिट्री कोर्ट ने जाधव को जासूसी और देश विरोधी गतिविधियों के आरोप में फांसी की सजा सुनाई है। भारत का कहना है कि जाधव को ईरान से अगवा किया गया था। इंडियन नेवी से रिटायरमेंट के बाद वे ईरान में बिजनेस कर रहे थे। हालांकि, पाक का दावा है कि जाधव को बलूचिस्तान से 3 मार्च 2016 को अरेस्ट किया गया था। पाकिस्तान ने जाधव पर बलूचिस्तान में अशांति फैलाने और जासूसी का आरोप लगाया है।

जाधव को कब सुनाई गई थी फांसी?

– पाकिस्तान आर्मी का दावा है कि जाधव इंडियन एजेंसी रिसर्च एंड एनालिसिस विंग (RAW) के लिए जासूसी कर रहे थे। उन्हें बलूचिस्तान प्रांत से पकड़ा गया। इसके बाद पाक आर्मी के फील्ड जनरल कोर्ट मार्शल (FGCM) ने अप्रैल में फांसी की सजा सुनाई थी।

– इंटरनेशनल कोर्ट ऑफ जस्टिस ने 18 मई, 2017 को फांसी की सजा पर रोक लगा दी थी। पाकिस्तान को कुछ और शर्तें पूरी करने को कहा।

जाधव को जल्द फांसी नहीं दी जाएगी

इस तरह की अफवाहें फैल रहीं थीं कि 25 दिसंबर को पत्नी और मुलाकात के बाद जाधव को जल्द फांसी दी जा सकती है। इस बारे में पाकिस्तान की फॉरेन मिनिस्ट्री के स्पोक्सपर्सन डॉक्टर मोहम्मद फैजल ने कहा था- मैं आपको भरोसा दिलाना चाहता हूं कि जाधव को जल्द फांसी दिए जाने का कोई खतरा नहीं है। हमने इंसानियत के आधार पर कमांडर जाधव की पत्नी और मां को उनसे मुलाकात की मंजूरी दी है। जाधव की दया याचिका (मर्सी पिटीशन) पेंडिंग है।

Show Buttons
Hide Buttons