देखिये ऐसा क्या अनोखा है इस बच्चे में,जो इस प्रकार जन्म लेने के बाद भी रहा स्वस्थ

राजस्थान : पिंडवाड़ा में करीब एक सप्ताह पहले मातृछाया अस्पताल में एक विचित्र बच्चे ने जन्म लिया है जिसके जन्म के समय चार पांव,  तीन हाथ और दो जननांग थे। मातृछाया अस्पताल में जन्मे विचित्र बच्चे का जयपुर के जेके लोन अस्पताल में सफल ऑपरेशन किया गया। जिसके बाद बच्चा अब स्वस्थ है। हालांकि, उसे डॉक्टर्स की देखरेख में ही रखा गया है।

  •  इस बच्चे का जन्म गत 29 जुलाई को पिंडवाड़ा के मातृछाया अस्पताल में हुआ। अस्पताल के प्रबंधक भरतपाल बैंदा ने बताया कि लक्ष्मणपुरा निवासी फूली पत्नी रमेश गरासिया का अस्पताल में प्रसव हुआ।
  • नवजात बच्चे के चार पांव, तीन हाथ और दो जननांग थे। जबकि अन्य सभी अंग सामान्य थे। ऐसा बहुत कम होता है कि इस विकृति के बावजूद बच्चा जीवित रहे।
  • ऐसे में बच्चे को इलाज के लिए हमने उदयपुर के महाराणा भूपाल अस्पताल भेजा। वहां से जांच के बाद उसे जयपुर भेजा गया। जहां उसका सफल ऑपरेशन कर इन अतिरिक्त अंगों को अलग कर दिया गया।
  • उन्होंने बताया कि जयपुर में यूनिट हैड डिपार्टमेंट एसएमएस मेडिकल कॉलेज के डॉक्टर प्रवीण माथुर ने बच्चे का ऑपरेशन किया। बच्चा अब एकदम स्वस्थ है।
  • अस्पताल के प्रबंधक भरतपाल बैंदा ने बताया कि प्रसव से लेकर बच्चे का पूरा ऑपरेशन भामाशाह योजना के तहत निशुल्क हुआ।
Show Buttons
Hide Buttons