दिल्ली : 28 मार्च को होंगे बाजार बंद, सीलिंग के खिलाफ फिर एकजुट होंगे व्यापारी

नई दिल्ली : सीलिंग के खिलाफ व्यापारियों ने 28 मार्च को दिल्ली में व्यापार बंद का ऐलान किया है. इसी दिन रामलीला मैदान में व्यापारियों की महारैली भी होगी.  रैली का आयोजन दिल्ली ट्रेडर्स एंड वर्कर्स एसोसिएशन तथा कनफेडरेशन आफ आल इंडिया ट्रेडर्स ने संयुक्त रूप से किया है. व्यापार बंद और रैली को सफल बनाने के लिए दिल्ली के 31 व्यापारियों की एक कोर समिति का गठन किया गया है, जिसका अध्यक्ष कैट के महासचिव प्रवीण खंडेलवाल को बनाया गया है.

समिति में व्यापारी नेताओं मनोहर लाल कुमार तथा विजय कुमार बंटी को भी शामिल किया गया है. खंडेलवाल ने कहा कि दिल्ली के विभिन्न इलाकों के 3,000 व्यापारी संगठन इस बंद एवं रैली में शामिल होंगे. व्यापारियों की मांग है कि सीलिंग पर रोक के लिए केंद्र सरकार संसद के मौजूदा सत्र में विधेयक या अध्यादेश लाए.

वहीं दिल्ली के मुख्यमंत्री विधानसभा में सीलिंग पर रोक के विधेयक को पारित करा इसे मंजूरी के लिए केंद्र को भेजें. व्यापार बंद से पहले 26 मार्च को दिल्ली के विभिन्न इलाकों में रैली निकालकर व्यापारियों को इसे सफल बनाने की अपील की जाएगी.

मास्टर प्लान में संशोधन 

बता दें कि मंत्रालय ने गत तीन फरवरी को मास्टर प्लान में संशोधन प्रस्तावों पर जनता से सात फरवरी तक अपने सुझाव और आपत्तियां देने को कहा था.  इस दौरान जनता से 741 सुझाव मिलने के अलावा आरडब्ल्यूए और एनजीओ आदि से 210 मौखिक प्रतिवेदन भी मिले.  इनके आधार पर मंत्रालय ने सभी संबद्ध पक्षों से विस्तृत विचार विमर्श कर संशोधन की सिफारिश की है.

उल्लेखनीय है कि आवासीय क्षेत्रों में मिश्रित उपयोग वाली संपत्तियों के आसपास पिछले 12 सालों में किये गये अनधिकृत निर्माण के खिलाफ उच्चतम न्यायालय द्वारा नियुक्त निगरानी समिति की देखरेख में दिसंबर 2017 में सीलिंग की कार्रवायी शुरु की गयी थी.  केन्द्र सरकार ने साल 2006 में दिल्ली के मास्टर प्लान 2021 में संशोधन कर राजधानी के विभिन्न इलाकों में 2183 गलियों और 355 सड़कों पर आवासीय संपत्तियों के मिश्रित उपयोग की इजाजत दी थी.  सितंबर 2006 में संशोधित मास्टर प्लान को सात फरवरी 2007 को अधिसूचित किया गया था.

Show Buttons
Hide Buttons