दहेज के लोभियों ने नई नवेली दुल्हन को झोका मौत के मुंह

आज के आधुनिक समय में भी दहेज़ प्रथा नाम की बुराई हर जगह फैली हुई हँ। पिछड़े भारतीय समाज में दहेज़ प्रथा अभी भी विकराल रूप में है। दहेज को लेकर हर साल न जाने कितनी लड़कियों को मौत के मुंह में झोक दिया जाता है। आज भी एक ऐसा ही मामला सामने आया है

ये घटना आजमगढ़ जिले के कन्धरापुर थाना क्षेत्र के जोलहापुर गांव की है जहां के निवासी भोला जायसवाल कि पुत्री श्वेता जायसवाल की शादी अभी इसी महीने की 3 तारीख को आजमगढ़ के जोलहापुर गांव के निवासी विकास जायसवाल से हुई थी।

हैरानी की बात तो ये है कि शादी को अभी फिल्‍हाल 1 महीना भी नहीं हुआ था लेकिन इस लड़की के ससुराल वालों यानि दहेज के लोभियों ने अपना रूप दिखा दिया और श्वेता को जिंदा जला ड़ाला।

वहीं आस पड़ोस के लोगों का कहना है कि भोला जायसवाल ने अपनी पुत्री की शादी में अपने सामर्थ्य से अधिक का दहेज दिया था, लेकिन श्वेता के ससुराल वालों को और अधिक पैसे चाहिए थे।

लड़की के पिता ने बताया कि शादी के तुरंत बाद ही श्वेता के ससुराल वालों ने श्वेता से 2 लाख रुपये नगद मांगना शुरू कर दिया था क्योंकि, भोला जायसवाल के पास अब और दहेज देने के लिए पैसे नहीं थे

जब दहेज की मांग पूरी नहीं हुई तो 21 दिसंबर को युवती के उपर मिट्टी का तेल डालकर आग के हवाले कर दिया। सूचना पाकर मायके वालों ने युवती को आजमगढ़ जिला अस्पताल भर्ती कराया जहां हालत गंभीर होने पर उसे वाराणसी के लिए रेफर कर दिया। श्वेता की वाराणसी ले जाते समय रास्ते में मौत हो गई।

Show Buttons
Hide Buttons