15. इसके अलावा मंदिर के ऊपर लगे सुदर्शन चक्र को आप किसी भी दिशा से देखें, यह आपको देखने पर बिलकुल सामने से ही दिखेगा। मंदिर के ऊपर कभी भी किसी पक्षी को उड़ते हुए नहीं देखा जाता है। इसके अलावा दिन के समय तेज धूप में भी मंदिर के मुख्य गुंबद की छाया अदृश्य ही रहती है