चूहों की बदबू से सुलझी लापता बच्चे की गुत्थी

उत्तर पश्चिमी दिल्ली के स्वरूप नगर के एक अपार्टमेंट में एक बच्चे की हत्या से जुड़ा एक सनसनीखे मामला सामने आया है। पुलिस को 37 दिन से लापता एक सात वर्षीय बच्चे का शव एक अपार्टमेंट में सूटकेस में डाला हुआ मिला। लापता बच्चे की गुत्थी पुलिस ने चूहों की बदबू की कहानी सामने आने के बाद सुलझाई।

इस मामले में पुलिस ने सिविल सेवा की तैयारी कर रहे अवधेश शाक्या (27) को गिरफ्तार किया है। पुलिस ने बताया कि बच्चा गत छह जनवरी से लापता था और इस संबंध में एक शिकायत दर्ज करायी गई थी।

पुलिस के एक अधिकारी ने बताया कि पूछताछ के दौरान आरोपी ने पुलिस को बताया कि लड़के का पिता लड़के के साथ उसके मेलजोल के खिलाफ था। वह लड़के के शव को ठिकाने लगाकर लड़के के पिता से फिरौती मांगना चाहता था।

मिली जानकारी के मुताबिक, आरोपी अवधेश ने बच्चे की लाश को प्लास्टिक बैग में लपेटकर हरे और काले कलर के सूटकेस में रखा था।  इसके बाद आरोपी ने सूटकेस को बेड बोक्स में ठूंस दिया। कई बार अवधेस से लोगों ने उसके फ्लेट से बदबू आने की भी शिकायत की। लेकिन वह हर बार यह कहकर बात टाल देता कि बदबू चूहों की वजह से आ रही है। आरोपी ने अपनी बात को सच साबित करने के लिए एक बार चूहे का कंकाल भी अपने फ्लेट के बाहर फेंका था। इसके बाद वह शव को ठिकाने लगाने की भी फिराक में था।

हालांकि, क्षेत्र में पुलिस की गश्त बढ़ने के चलते आरोपी ऐसा नहीं कर पाया। पुलिस ने बताया कि आरोपी किसी समय पीड़ित बच्चे के पिता का किरायेदार था।

पुलिस को बच्चे की लाश का सुराग भी पड़ोसियों का जरिए मिला जो अक्सर अवधेश के फ्लेट से बदबू आने की शिकायत करते थे। जांच के दौरान दिल्ली पुलिस को पड़ोसियों ने अवधेश के फ्लेट से बदबू आने और उसके द्वारा बताई गई चूहों की कहानी के बारे में बताया। इसके बाद पुलिस को शक हुआ और उसने अवधेश से पूछताछ की। जब आरोपी के रूम की तलाशी ली गई तो पुलिस को मरे हुए चूहे, बिना इस्तेमाल की हुईं 10 पर्फ्यूम की बोतलें और सूटकेस में बच्चे की लाश मिली।

Show Buttons
Hide Buttons