चीन ने भारत को दी चेतावनी

भारत और चीन के बीच सिक्किम सेक्टर पर तनाव लगातार गहराता जा रहा है।  बुधवार को चीन के सरकारी अखबार ग्लोबल टाइम्स में छपे लेख में भारत को कड़ा सबक सीखाने की बात कही गई। साथ ही लेख में भारत को चेतावनी दी गई कि अगर वह चाइना के साथ युद्ध करता है तो उसे 1962 से ज्यादा नुकसान होगा।

चीनी अखबार ने कहा कि अगर भारत यह सोचता है कि वह डोंगलांग इलाके में सेना का इस्तेमाल कर सकता है और चीन एवं पाकिस्तान के खिलाफ एक साथ युद्ध के लिए तैयार है, तो हमें भारत को यह बताना होगा कि वह चीनी सेना की ताकत को हल्के में ले रहा है. ग्लोबल टाइम्स ने अपने संपादकीय में लिखा कि जेटली ठीक कह रहे हैं कि 1962 और 2017 के भारत में काफी अंतर है, लेकिन अगर जंग हुई, तो भारत को ज्यादा नुकसान उठाना होगा।

चीन का मानना है कि भारत का मकसद डोंगलांग इलाके को विवादित क्षेत्र में तब्दील करना है और चीनी निर्माण कार्य को रोकना है. चीनी अखबार ने कहा कि भारत को पहले आइना देखना चाहिए।  उसके पास चीनी सैनिकों के घुसपैठ के सबूत नहीं हैं। इसके अलावा चीन के यांग सिलिंग अखबार ने कहा कि भारत भूटान को चीन के खिलाफ विरोध के लिए उकसा रहा है।  मालूम हो कि चीनी सेना ने डोकलम इलाके में घुसपैठ की थी और दो बंकर तैनात कर दिए थे।

भारत में चीन के राजदूत झाओहुई ने कहा, ‘स्थिति गंभीर है, जिसने मुझे गंभीर चिंता में डाल दिया है।  यह पहला मौका है जब भारतीय सैनिकों ने पारस्परिक सहमति वाली सीमा रेखा पारकर चीन की सीमा में प्रवेश किया है।  इससे चीन और भारत के सीमा पर तैनात सैनिकों के बीच गहरा गतिरोध पैदा हो गया है। अब 19 दिन बीत चुके हैं, लेकिन स्थिति अब भी सहज नहीं हो सकी है।  उन्होंने कहा कि भारत को चीन-भूटान सीमा वार्ता में हस्तक्षेप का कोई अधिकार नहीं है और ना ही वह भूटान की तरफ से क्षेत्र को लेकर दावा करने के लिए अधिकृत है।

 

Show Buttons
Hide Buttons