क्रिकेटर शमी के एक्सीडेंट को लेकर पुलिस ने किया हैरान कर देने वाला ख़ुलासा

हाल ही में बिते दिन रविवार को पूरे देश में रामनवमी का जश्‍न धूमधाम से मनाया जा रहा था वहीं दूसरी ओर भारतीय टीम के तेज़ गेंदबाज मोहम्मद शमी सड़क दुर्घटना में बुरी तरह घायल हो गए। ये दुर्घटना को काफी गंभीर बताया जा रहा था। जानकारी के लिए आपको बता दें कि देहरादून से दिल्ली लौटते वक्त ये हादसा हुआ। उनके सिर पर चोट आई है और इसकी वजह से उनको टांके लगाए गए हैं। वो फिलहाल देहरादून के अस्पताल में भर्ती हैं। ऐसे में अब इस एक्सीडेंट के तकरीबन 24 घंटे बाद पुलिस ने इस हादसे के बारे में एक बड़ा ख़ुलासा किया है जैसा कि हम सभी जानते हैं कि मोहम्मद शमी पत्नी के द्वारा लगाए गए आरोपों की वजह से विवादों में चल रहे हैं।

इस खबर से हर किसी को हिला कर रख दिया है क्‍योंकि बीते 15-20 दिनों से मोहम्मद शमी वैसे भी अपने पारिवारिक लड़ाई से जूझ रहे थे और अब ऐसी दुर्घटना का शिकार हो चुके मोहम्‍मद शमी के ऊपर एक और मुसीबत बन कर टूटा था। ये घटना दिल्ली जाते समय देहरादून में आशारोड़ी बैरियर के पास क्रिकेटर मोहम्मद शमी की गाड़ी को सामने से आ रहे ट्रक ने टक्कर मार दी थी। जिसके बाद इस चर्चा ने जोर पकड़ लिया था कि कहीं ये कोई साजिश तो नहीं है। इतना ही नहीं शमी के एक्सीडेंट के बाद कई लोगों ने इसमें साजिश की भी आशंका जताई थी लेकिन अब पुलिस ने इस मामले में सच सामने लाकर रख दिया है।

 जी हां जानकारी के अनुसार इस हादसे में अकेले शमी नहीं बल्कि दुर्घटना में शमी, उनके दोस्त और चालक घायल हो गए। सभी को तत्काल सीएमआई अस्पताल पहुंचाया गया, जहां शमी के माथे पर दस टांके आए। उपचार के बाद कुछ देर आराम कर शमी दिल्ली के लिए रवाना हो गए।  पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर आरोपी ट्रक चालक को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है। पुलिस ने शमी के एक्सीडेंट को दुर्भाग्यवश हादसा ही बताया है। पुलिस के अनुसार “जिस वक़्त ये हादसा हुआ उस समय ट्रक चालक काफी तेज़ स्पीड में था और उसने अपना नियन्त्रण खो दिया जिसकी वजह से ये एक्सीडेंट हुआ है। ऐसे में ये किसी तीसरे की साजिश तो नहीं लगती, ये महज़ एक दुर्घटना है।

तेज गेंदबाज मोहम्मद शमी और उनकी पत्नी के बीच विवाद को लेकर इस वक्त जिस तरह आरोप-प्रत्यारोप का दौर चल रहा है, उसे देखते हुए हादसे में साजिश की चर्चा होने लगी। जानकारी के लिए बता दें कि पत्नी हसीन जहां ने धारा 307 (हत्या की कोशिश का आरोप), 498 ए (घरेलू हिंसा), 506 (आपराधिक धमकी), 328 , 34 (कई लोगों द्वारा किसी अपराध को अंजाम देने के लिए साझा साजिश) और 376 (बलात्कार) सहित कई धाराओं के तहत मुकदमा दर्ज कराया है।

Show Buttons
Hide Buttons