कोलकाता में शाह ने रैली को किया संबोधित : NRC को लेकर सीएम ममता बनर्जी पर किया प्रहार

कोलकाता की रैली में बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने ममता बनर्जी पर जमकर निशाना साधा. उन्होंने कहा कि ममता बनर्जी एनआरसी का विरोध इसलिए कर रही हैं क्योंकि वो नहीं चाहतीं कि बांग्लादेशी घुसपैठिए असम से निकाले जाएं. घुसपैठिये तृणमूल कांग्रेस का वोट बैंक हैं.

उन्होंने कहा कि हमारी रैली के लिए कई तरह के व्यवधान डाले गए. पहले रैली की इजाजत नहीं दी गई. बांग्ला टीवी के प्रसारण को रोका गया. लेकिन मेरी आवाज रुकेगी नहीं. मैं ममता बनर्जी की पार्टी टीएमसी को उखाड़ फेंकने के लिए बंगाल के सभी जिलों में जाऊंगा.

अमित शाह ने कहा कि तृणमूल के लोग भ्रान्ति फैला रहे है कि NRC के तहत शरणार्थी भी चले जायेंगे लेकिन में आश्वस्त कर दूं कि पश्चिम बंगाल में जितने शरणार्थी है उनको वापस भेजने का कोई कार्यक्रम नहीं है. अन्य देशों से आए शरणार्थियों को रखने भारत सरकार की जिम्मेदारी हैं.

भाजपा अध्यक्ष ने कहा, यदि आप एक विकसित बंगाल चाहते हैं तो हमें राज्य में अवैध प्रवासियों को घुसने से रोकना ममता दीदी को इसलिए जीत मिली थी क्योंकि उन्होंने भ्रष्टाचार के खिलाफ लड़ाई की थी लेकिन अब घोटाले हर जगह हैं। यदि आप भ्रष्टाचार मुक्त बंगाल चाहते हैं तो आपको भाजपा को वोट देकर सत्ता में लाना होगा।

रैली को संबोधित करते हुए अमित शाह ने दावा किया कि एनआरसी को असम अकॉर्ड के तहत बनाया गया है, जो पूर्व पीएम राजीव गांधी ने किया था. उन्होंने कहा कि राजीव गांधी के कार्यकाल के दौरान कांग्रेस ने इसका विरोध नहीं किया, लेकिन आज जब बात वोट बैंक की आई है तो कांग्रेस इसका विरोध करने में लगी हुई है.

भाजपा अध्यक्ष ने कहा, हम इस बात को सुनिश्चित करेंगे कि एनआरसी की प्रक्रिया शांतिपूर्ण तरीके से असम में हो। ना तो ममता बनर्जी और ना ही राहुल गांधी हमें ऐसा करने से रोक सकते हैं। हम ममता बनर्जी से पूछना चाहते हैं कि आखिर वह क्यों बांग्लादेशी घुसपैठियों को बचा रही हैं? राहुल गांधी भी इस मामले पर अपना पक्ष साफ नहीं कर पा रहे हैं। यह केवल कांग्रेस के वोट बैंक की वजह से हो रहा है।

अमित शाह ने कहा, आज की ये रैली इस बात की परिचायक है कि बंगाल में परिवर्तन होने जा रहा है। ममता जी सुन लो हमारी आवाज बंद करने से यहां रुकेगी नहीं। मैं पूरे बंगाल के हर जिले में आंदोलन लेकर जाऊंगा।

कोलकाता पुलिस ने ट्वीट करते हुए लिखा है, ’11 अगस्त को एक राजनीतिक पार्टी की रैली को मंजूरी को लेकर सोशल मीडिया पर कई अफवाहें चल रही हैं। हम बता देना चाहते हैं कि हमने रैली की मंजूरी पहले ही दे दी थी।

Show Buttons
Hide Buttons