एसडीएम आॅफिस रेवाड़ी : लाइसेंस क्लर्क रहते हुए किया गबन-अब हुआ बर्खास्त

रेवाड़ी एसडीएम कार्यालय का क्लर्क राकेश कुमार फर्जी मुहर और रसीदें तैयार कर 3.66 लाख रुपए की सरकारी राशि डकार गया। प्रशासन की नजर में मामला आया तो इसकी जांच शुरू हुई। गबन पाए जाने पर डीसी ने कर्मचारी को बर्खास्त कर दिया। राकेश कुमार द्वारा यह गड़बड़ी वर्ष 2013-14 में एसडीएम कार्यालय में लाइसेंस क्लर्क के पद कार्य करते हुए की थी। शिकायत मिलने पर मई 2017 में इसकी जांच कराई गई। वर्तमान में राकेश कुमार क्लर्क से पदोन्नत होकर डीसी ऑफिस में सहायक के पद पर कार्यरत था।

सरकारी खाते में राशि जमा नहीं हुई तो खुलासा

  •  वर्तमान में डीसी आॅफिस में सहायक पद पर कार्यरत राकेश कुमार वर्ष 2013-14 में एसडीएम कार्यालय में लाइसेंस क्लर्क था।
  •  गड़बड़झाला करते हुए राकेश ने 3 लाख 66 हजार 7 सौ रुपए हजम कर गया। जब रिकार्ड की जांच हुई तो सामने आया कि यह राशि सरकारी खाते में जमा नहीं हुई है।
  • डीसी ने यह जांच सीटीसी को सौंपी। जांच के दौरान राशि में की गई हेरा-फेरी खुलकर सामने आई गई।
  •  15 जनवरी 2018 को राकेश कुमार ने निजी सुनवाई के लिए आवेदन किया, जिस पर जिला प्रशासन ने 7 फरवरी 2018 को निजी सुनवाई का अवसर राकेश कुमार को दिया गया, जिसमें कर्मचारी अपनी स्थिति स्पष्ट नहीं कर सका।
  •  इसके बाद राकेश को दूसरा कारण बताओ नोटिस जारी कर 27 फरवरी को निजी सुनवाई का फिर मौका दिया गया। कर्मचारी निजी सुनवाई के दौरान कोई संतोषजनक जवाब व साक्ष्य प्रस्तुत नहीं कर सका।
  •  आरोपी ने फर्जी रसीदें तैयार करके रिकार्ड में पैसा सरकारी खाते में जमा होना दर्शाया है, जबकि सरकारी पैसा कभी भी बैंक में जमा नहीं करवाया गया। यह आरोप जांच रिपोर्ट में सिद्ध हुए है।

जानबूझकर किया गया गबन 

जांच अधिकारी की जांच रिपोर्ट व फाइल पर आए हुए रिकॉर्ड का भली भांति अवलोकन करने के के डीसी पंकज ने निर्णय लिया कि कर्मचारी ने जानबूझ कर गबन किया है। आरोपों की गंभीरता को देखते हुए उसे सरकारी सेवा से बर्खास्त कर दिया।

Show Buttons
Hide Buttons