एक दिन की बारिश में डूबा ‘विकास , 48 घंटे भारी बारिश का अलर्ट !

नागपुर: महाराष्ट्र का नागपुर भारी बारिश के बाद पानी में डूब गया है. कल 9 घंटे की बारिश ने नागपुर को पानी पानी कर दिया. शहर की सड़के तालाब बन गई और घरों में पानी घुस गया. फिलहाल बारिश रुकी हुई है और पानी उतर रहा है. एयरपोर्ट से उड़ाने भी शुरू हो चुकी हैं. मौसम विभाग ने अगले 48 घंटे भारी बारिश का अनुमान जताया है. बारिश की आशंका से आज भी स्कूल कॉलेज बंद रहेंगे.

बारिश के चलते कल नागपुर के पिपला इलाके आदर्स संस्कार स्कूल के 500 बच्चों की जिंदगी खतरे में पड़ गई. 500 के करीब बच्चे स्कूल में ही फंस गए. सुबह जब बच्चे स्कूल पहुंचे तब तक तो हालात सामान्य थे लेकिन धीरे धीरे पानी इतना बढ़ गया कि स्कूल के अंदर तक पहुंच गया.

स्कूल ने तुरंत पुलिस को सूचना दी और पुलिस ने बच्चों को नाव और ट्रकों के सहारे निकालना शुरू किया. अगले 48 घंटे में भी भारी बारिश की चेतावनी की वजह से स्कूलों को शनिवार को बंद रखा गया है.

बारिश की वजह से कल विधानसभा में पानी भर गया, जिसकी वजह से सदन की कार्यवाही रोकनी पड़ी. पावर स्टेशन में पानी भरने की वजह से बिजली की सप्लाई ठप हो गई और  महाराष्ट्र के मंत्री विनोद तावड़े सहित कई विधायक मोमबत्ती जलाकर अपने कमरे में बैठे नजर आए. बताया जा रहा है कि विधानसभा के पास के नालों की सफाई ही नहीं हुई थी और इसी वजह से पानी विधानसभा में भर गया.

कल शाम सात बजे से नागपुर में बारिश कम हुई है और अभी बादल भी साफ हैं. जो दुकानें कल बंद थीं बारिश की वजह से वो आज शुबह 5:30 बजे से ही खुल गई हैं. अब आम जन जीवन पटरी पर लौट रहा है. नागपुर में विकास के बड़े-बड़े दावे किए जाते रहे हैं लेकिन एक दिन की बारिश में पूरा शहर पानी में डूब गया.

बड़ी बात यह है कि खुद मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस नागपुर के रहने वाले हैं. इतना ही नहीं केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी भी यहीं के हैं और आरएसएस का मुख्यालय भी यहीं पर है. विपक्ष पूछ रहा है कि जो सीएम अपना शहर नहीं संभाल पा रहा वो सूबे को क्या संभालेगा.

Show Buttons
Hide Buttons