इस वजह से लालू प्रसाद यादव को सुनाई जाएगी कल सजा

चारा घोटाले में दोषी पाए गए राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) प्रमुख तथा बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद यादव को अब कल गुरुवार को सजा सुनाई जाएगी. सीबीआई की विशेष अदालत द्वारा आज सजा का ऐलान किया जाना था, लेकिन एक वरिष्ठ अधिवक्ता विंदेश्वरी प्रसाद का निधन हो जाने के कारण आज अदालती कार्रवाई नहीं हो सकी और फैसले को कल तक के लिए टाल दिया गया.

लालू समेत 16 लोगों को 23 दिसंबर को सीबीआई की विशेष अदालत ने चारा घोटाले से जुड़े देवघर कोषागार से 89 लाख़, 27 हजार रुपये की अवैध निकासी के मामले में दोषी ठहराया था. पुलिस ने उसी दिन सभी को हिरासत में लेकर रांची की बिरसा मुंडा सेंट्रल भेज दिया था.

सीबीआई की विशेष अदालत ने लालू यादव को धोखाधड़ी करने, साजिश रचने और भ्रष्टाचार के आरोप में आईपीसी की धारा 420, 120-बी और पीसी एक्ट की धारा 13(2) के तहत दोषी ठहराया था. 1994 से 1996 के बीच देवघर जिला कोषागार से फर्वीवाड़े तरीके से 84.5 लाख रुपये निकाले गए थे.

इन्हें सुनाई जाएगी सजा

लालू प्रसाद यादव-बिहार के पूर्व सीएम, जगदीश शर्मा-पॉलिटिकल लीडर, आरके राणा-पॉलिटिकल लीडर, बेक जूलियस-आईएएस ऑफिसर, फूलचंद सिंह-आईएएस ऑफिसर, महेश प्रसाद-आईएएस ऑफिसर, कृष्ण कुमार-गवर्नमेंट इम्प्लॉई, सुबीर भट्टाचार्य-ट्रेजरी ऑफिसर

सजा के बाद लालू के पास क्या ऑप्शन होंगे?

  •  3 साल से कम सजा मिलने पर लालू को तुरंत ही प्रोविजनल बेल मिल जाएगी।
  •  3 साल से ज्यादा सजा हुई तो फैसले की कॉपी मिलते ही उनकी ओर से झारखंड हाईकोर्ट में अपील की जाएगी।

1997 में पहली बार जेल गए थे लालू

  • 1997 में लालू को पहली बार ज्यूडिशियल कस्टडी में लिया गया था। वे 137 दिन जेल में रहे थे और राबड़ी देवी बिहार की सीएम बनी थीं। 12 दिसंबर 1997 को लालू रिहा हुए थे।
  •  दूसरी बार लालू 28 अक्टूबर 1998 को पटना के बेऊर जेल गए। बाद में उन्हें जमानत मिली। इसी मामले में लालू को 28 नवंबर 2000 में एक दिन के लिए जेल जाना पड़ा था।
  •  चारा के नाम पर चाईबासा ट्रेजरी से 37 करोड़ रुपए के गबन का दोषी पाए जाने के बाद लालू को 2013 में भी जेल जाना पड़ा था। तब वे दो महीने रांची जेल में रहे थे। 25 लाख रुपए का जुर्माना भी लगा था। उसी साल दिसंबर में सुप्रीम कोर्ट ने उन्हें जमानत दे दी थी।
Show Buttons
Hide Buttons