आखिरकार छठे दिन हुआ गुरबख्श सिंह का संस्कार, तो जमकर लगाए खालिस्तान के नारे

कुरुक्षेत्र (इस्माइलाबाद) : सजा भुगत चुके बंदी सिखों की ठसका अली में गत मंगलवार को 80 फुट ऊंची पानी की टंकी से कूद जान देने वाले गुरबख्श सिंह का 6 दिनों की जद्दोजहद के बाद आखिरकार रविवार को भारी तनाव व सुरक्षा के बीच संस्कार कर दिया। हालांकि संस्कार करने की घोषणा शनिवार को सिखों ने कर दी थी, लेकिन रविवार को ऐन मौके पर फिर से बवाल खड़ा हो गया। पंजाब से पहुंचे कुछ सिख नेता एसपी-डीएसपी का तबादला, दोनों एसएचओ को सस्पेंड करने की लिखित में आर्डर की मांग पर अड़ गए। इसके बाद असंध विधायक बख्शीश सिंह विर्क फिर ठसका पहुंचे।

  •  अधिकारियों व अफसरों से अलग-अलग देर शाम तक बातचीत की। इसी बीच सिखों ने शव को पंजाब ले जाने का ऐलान कर दिया। जिस पर प्रशासन भी फोर्स के साथ अलर्ट हो गया।
  •  चेतावनी दी कि शव को पंजाब नहीं ले जाने देंगे। विर्क ने भरोसा दिया कि जिन मांगों पर सहमति बनी है, उन्हें पूरा किया जाएगा।
  •  दोनों एसएचओ को लाइनहाजिर कर दिया है। निलंबन की कार्रवाई में कुछ समय लगेगा। इसके बाद सिख शाम पांच बजे संस्कार करने को राजी हुए। खालिस्तान के नारों के बीच संस्कार

​आखिरकार छठे दिन हुआ गुरबख्श सिंह का संस्कार, खालिस्तान जिंदाबाद के लगे नारे

  •  शाम को ठसका अली में ही गुरबख्श खालसा का छह दिन बाद संस्कार किया। कुछ सिख जत्थेबंदियां शव पंजाब ले जाना चाहती थी, लेकिन हरियाणा के सिख व प्रशासन इसके लिए राजी नहीं था।
  •  शाम को शवयात्रा के दौरान जहां कुछ सिखों ने खालिस्तान जिंदाबाद व भिंडरावाला के समर्थन में नारे लगाए। वहीं शव पर भी खालिस्तान लिखा हुआ कपड़ा डाला गया।
Show Buttons
Hide Buttons