आईजीयू थप्‍पड़ कांड को लेकर एबीवीपी ने आन्दोलन की दी बड़ी चेतावनी

रेवाड़ी की इंदिरा गांधी विश्वविद्यालय (आईजीयू) मीरपुर में असिस्टेंट प्रोफेसर से अभद्रता मामला पूरी तरह तूल पकड़ चुका है।  शिक्षकों के साथ ही छात्र संगठनों इनसो और एनएसयूआई के विश्वविद्यालय में विरोध प्रदर्शन के बाद शिक्षक को थप्पड़ मारने के आरोपी छात्र को विश्वविद्यालय से निष्कासित कर दिया गया तथा उसके खिलाफ पुलिस ने एफआईआर भी दर्ज की है।

आरोपी छात्र एबीवीपी का पदाधिकारी है। इसी के चलते अब एबीवीपी पदाधिकारियों ने विश्वविद्यालय के घेराव की चेतावनी दी है। मंगलवार को पत्रकारवार्ता करते हुए उन्होंने कहा कि यदि छात्र पर दर्ज मुकदमा रद्द हो तथा शिक्षक के खिलाफ तुरंत एफआईआर दर्ज की जाए। वहीं एनएसयूआई और इनसो इसके विपक्ष में खड़ी हो गई है।

बता दें कि 10 मई को लॉ की परीक्षा के दौरान एक शिक्षक ने पेपर दे रहे एबीवीपी के पदाधिकारी का नकल का केस बना दिया था तथा छात्र पर थप्पड़ जड़ने के आरोप लगाए थे। तब से यह मामला तूल पकड़े हुए है।

इसके बाद सोमवार को प्रोफेसरों ने विश्वविद्यालय में धरना-प्रदर्शन शुरू कर दिया. उनकी मांग थी कि छात्र चमन के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाए. प्रोफेसरों के समर्थन में अन्य संगठन के छात्र भी उतर आए और जमकर बवाल काटा. प्रोफेसरों ने प्रदर्शन के दौरान अंदर से परीक्षा केंद को बंद कर दिया. इसके बाद माहौल खराब होता देख पुलिस मौके पर पहुंंची और काफी मशक्कत के बाद गेट को खुलवाया. इस कारण परीक्षा देरी से शुरू हुई.

इसके बाद वाइस चांसलर डॉ. एसपी बंसल का कहना है कि छात्र द्वारा प्रोफेसर को थप्पड़ मारना निंदनीय है और पूरे मामले की विश्विद्यालय की तरफ से बनाई गई कमेटी जांच कर रही है. जांच रिपोर्ट आने के बाद नियमानुसार कार्रवाई की जाएगी. बहराल प्रोफेसरों के समर्थन में दूसरे छात्र संगठन के लोग भी आ गए हैं और आरोपी छात्र पर उचित कार्रवाई करने की मांग पर अड़े हुए हैं.

Show Buttons
Hide Buttons