अमरनाथ यात्रा: बालटाल में फंसे 18 हजार श्रद्धालु , क्या दर्शन के बिना लौटेंगे ?

मौसम साफ होने के बाद शुक्रवार को पहलगाम ट्रैक से अमरनाथ यात्रियों को पवित्र गुफा के दर्शन के लिए रवाना किया गया। जबकि बालटाल ट्रैक खराब होने के कारण यात्रा रुकी रही। यात्रियों को आगे नहीं जाने दिया गया। बालटाल में अभी करीब 18000 हजार यात्री फंसे हुए हैं। काफी यात्री यहां से बिना दर्शन किये वापस जा रहे हैं।  बालटाल बेस कैंप से बड़ी संख्या में श्रद्धालुओं को पहलगाम शिफ्ट किया जा रहा है। दूसरी ओर जम्मू के भगवती नगर बेस कैंप से शुक्रवार को भी अमरनाथ यात्री नहीं भेजे गए।

श्री अमरनाथ श्राइन बोर्ड के चेयरमैन व राज्यपाल एनएन वोहरा ने बालटाल, पंजतरणी और नुनवान (पहलगाम) यात्रा कैंपों का दौरा कर व्यवस्थाओं को दुरुस्त बनाने के निर्देश दिए। दूसरी ओर पंजतरणी व बालटाल ट्रैक पर फंसे लगभग 400 यात्रियों को वायुसेना ने तीन हेलीकाप्टर की मदद से सुरक्षित स्थान पर पहुंचाया।

इस बीच नौंवे दिन 4821 श्रद्धालुओं ने पवित्र हिमलिंग के दर्शन किए। इसके साथ यह आंकड़ा 73023 तक पहुंच गया है। नीलग्रथ से पवित्र गुफा तक बालटाल चापर सेवा से 1314 श्रद्धालु पहुंचे। इसमें 839 पुरुष और 475 महिला श्रद्धालु शामिल रहे। शुक्रवार को बालटाल बेस कैंप में 400 श्रद्धालु पहुंचे। ट्रैक के असुरक्षित होने के कारण श्रद्धालुओं को पहलगाम से यात्रा के लिए शिफ्ट किया जा रहा है।

बताया कि 20000 यात्रियों की क्षमता वाले विभिन्न केंद्रों पर यात्रियों के लिए उचित इंतजाम किए गए हैं। यात्रा रुकने की सूरत में श्रद्धालुओं को वैष्णो देवी, शिवखोड़ी और अन्य दूसरे धार्मिक स्थलों पर भेजा जा रहा है।

Show Buttons
Hide Buttons